Breaking News
ऋषिकेश में बड़ा सड़क हादसा, 35 यात्रियों से भरी बस पलटी
उत्तराखंड की सोशल मीडिया एक्टिविटीज की भारत निर्वाचन आयोग ने की सराहना – रवि बिजारनीया
PM मोदी और धन दा की छोटी सी मुलाकात बनी राजनीतिक गलियारों में चर्चा का विषय
क्षेत्रीय विधायक डॉ प्रेमचंद अग्रवाल ने पीएम मोदी के देवभूमि आगमन पर किया अभिनंदन
कांग्रेस की कमजोर सरकार सीमा पर आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर नहीं बना पाई – प्रधानमंत्री मोदी
पीएम की गारंटियां देश के हर गरीब और पिछड़े व्यक्ति का जीवन बना रही बेहतर – मुख्यमंत्री
मोदी के नेतृत्व में देश का गौरव बढ़ा- धामी
भाजपा प्रत्याशी त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पिरान कलियर के लगभग एक दर्जन गांवों में किया रोड शो
5 अप्रैल को दून और मसूरी आएंगे उपराष्ट्रपति

मुख्यमंत्री ने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रुड़की एवं भारी उद्योग मंत्रालय के मध्य हुए एमओयू के लिए सभी को दी शुभकामनाएं

देहरादून  :   मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बुधवार को भारी उद्योग मंत्रालय भारत सरकार एवं आई. आई. टी रूड़की के मध्य अनुसंधान एवं विकास हेतु ऑटो सेक्टर तथा ई मोबिलिटी के क्षेत्र में उत्कृष्टता एवं उद्योग त्वरक केन्द्र की स्थापना से संबंधित समझौता ज्ञापन (एम.ओ.यू) पर हस्ताक्षर हेतु आयोजित कार्यक्रम में राज्य अतिथि गृह, हरिद्वार से वर्चुअली प्रतिभाग किया।

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रुड़की एवं भारी उद्योग मंत्रालय, के मध्य हुए इस एमओयू के लिए सभी को शुभकामनाएं देते हुए मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि भारत सरकार की दो महत्वपूर्ण इकाइयों के सहयोग से यह पहल प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के स्वप्न “विकसित भारत 2047“ के निर्माण की दिशा में एक सराहनीय प्रयास है। आईआईटी रुड़की न केवल उत्तराखंड में, बल्कि पूरे देश में उच्चतम एवं गुणवत्तापरक शिक्षा का प्रतीक ही नहीं, एक बेहतर उच्च तकनीकि संस्थान भी है। यहां के तकनीकि शिक्षा के दक्ष छात्र देश के विभिन्न क्षेत्रों में अपना योगदान दे रहे हैं।

उन्होंने कहा कि आईआईटी रुड़की ने नवाचार के क्षेत्र में हमेशा महत्वपूर्ण कार्य किया है। आईआईटी रुड़की में सेंटर ऑफ एक्सीलेंस तथा इंडस्ट्री एक्सेलरेटर की स्थापना एक महत्वपूर्ण पहल है जो निसंदेह उत्तराखंड के समग्र विकास तथा नवाचार में योगदान करेगी। उन्होंने कहा कि सेंटर ऑफ एक्सीलेंस और इंडस्ट्री एक्सेलरेटर हमें न केवल एक ज्ञान निर्भर अर्थव्यवस्था बनाने में मदद करेंगे, बल्कि हमें अनुसंधान के क्षेत्र में भी सहायता करेंगे। उत्कृष्टता केन्द्र उद्योगों में प्रौद्योगिकी के हस्तांतरण के लिए सक्रिय रूप से योगदान देगा तथा ऑटोमोटिव क्षेत्र में स्वदेशी समाधानों और उत्पादों के विकास को भी प्रेरित करेगा।

मुख्यमंत्री ने विश्वास व्यक्त किया कि यह केंद्र भारत को वैश्विक विनिर्माण केंद्र बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा और तकनीकि उत्कृष्टता एवं आर्थिक समृद्धि में महत्वपूर्ण योगदान देगा। उन्होंने कहा कि व्यापक प्रशिक्षण कार्यक्रमों और शैक्षणिक पहलों के माध्यम से, हमारा लक्ष्य हमारे युवा मस्तिष्कों को ऑटोमोटिव और संबंधित प्रौद्योगिकियों के क्षेत्र में अग्रणी बनाना है। यह साझेदारी उत्तराखंड के विज्ञान और प्रौद्योगिकी क्षेत्र में भी प्रगति की ओर महत्वपूर्ण कदम साबित होगा

मुख्यमंत्री ने इस समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर की पहल के लिए केंद्रीय भारी उद्योग मंत्री श्री महेंद्रनाथ पांडे का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि यह समझौता प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मेक इन इंडिया विजन को नई ऊंचाई तक पहुंचाएगा तथा केंद्र सरकार के सहयोग से हमारी पहल को और भी मजबूत बनाएगा। यह समझौता ज्ञापन निश्चित रूप से उत्तराखंड और भारत को नई ऊंचाइयों तक पहुंचाने में भी मददगार होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top