Breaking News
मुख्यमंत्री ने 27 डिप्टी जेलरों तथा 285 बंदी रक्षकों को  वितरित किए नियुक्ति-पत्र                                                                                                                              
मुख्यमंत्री ने एचडीएफसी बैंक के राजपुर गांव की 111वीं शाखा, युकाडा के विभिन्न सॉफ्टवेयर और चार-धामों में यात्रियों की सुविधा के लिए स्थापित एटीएम का किया शुभारम्भ
मुख्यमंत्री ने वन-क्लिक व्यवस्था के तहत 8 लाख 36 हजार 603 लाभार्थियों को भेजी 125 करोड़ सामाजिक पेंशन की धनराशि।
मुख्यमंत्री ने 35 सहायक समाज कल्याण अधिकारियों तथा 03 छात्रावास अधीक्षकों को प्रदान किए नियुक्ति-पत्र।
मुख्य सचिव श्रीमती राधा रतूड़ी ने खेल विभाग की समीक्षा की 
सीएस श्रीमती राधा रतूड़ी ने कृषि एवं उद्यान विभाग को प्रदेश में  अनुपयोगी घाटियां एवं जमीनों को चिहिन्त कर उनमें मंडुआ, झंगोरा एवं चौलाई के बड़े स्तर पर उत्पादन को बढ़ावा देने तथा क्षेत्र विस्तार की कार्ययोजना तैयार करने के निर्देश दिए 
केआइएसएस मानवतावादी सम्मान से सम्मानित किए गए माइक्रोसॉफ्ट के सह संस्थापक बिल गेट्स
पंचायतों के सशक्तिकरण के लिए पंचायत मंत्री ने सदन में प्रस्तुत किया संकल्प पत्र
पीठ दर्द को नजरअंदाज करना स्वास्थ्य के लिए गंभीर जोखिम

स्कूली छात्र छात्राओं को बताए सड़क सुरक्षा के नियम व नशे के कुप्रभाव

पौड़ी पुलिस स्कूलों मा जै कि स्कूली नौन्यालों तै लगातार करण लगी च जागरूक

स्कूली नौन्याल यातायात नियमों, साइबर अपराध व नशा का दुष्प्रभावों का बारा मा लेणां छिन जानकारी

श्रीनगर। सड़क सुरक्षा माह के तहत पुलिस टीम ने “सेंट टेरेसा स्कूल श्रीनगर” में छात्र-छात्राओं को सड़क सुरक्षा से सम्बन्धित यातायात नियमों की जानकारी दी। यातायात नियमों का पालन करने व नशे से दूर रहने को कहा गया। समस्त छात्र-छात्राओं को यातायात नियमों का पालन करने व नशे से दूर रहने की शपथ भी दिलाई गई। इसके अलवा जनपद की थलीसैंण पुलिस टीम ने “एक साझू प्रयास पुलिस वाला गुरुजी का साथ” यानि “आपका और पुलिस का सामूहिक प्रयास” की थीम पर राजकीय इंटर कॉलेज थलीसैण में जाकर छात्र-छात्राओं को महिला सम्बन्धी अपराधों व उनके कानूनी अधिकार के बारे में जानकारी दी।

 

गुड टच बेड टच, सोशल मीडिया के फेसबुक इंस्टाग्राम ट्विटर तथा व्हाट्सएप आदि से संबंधित साइबर अपराधों से बचाव के बारे में भी वताया गया। हेल्पलाइन-1930, डायल-112, उत्तराखंड पुलिस ऐप आदि के उपयोग के बारे में बताया और इलाके में होने वाली अवैध गतिविधियों/ मादक पदार्थों की तस्करी की सूचना देने के लिए कहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top