Breaking News
एक सितंबर को गैरसैण में होगी मूल निवास स्वाभिमान महारैली, 50 हजार लोगों को जुटाने का रखा गया लक्ष्य
राष्ट्रीय राजधानी में जारी पानी की किल्लत को लेकर चरम पर पहुंची सियासत, आमने- सामने आए भाजपा और आप पार्टी के नेता
कई राज्यों में बारिश के साथ आंधी की चेतावनी, जारी हुआ रेड अलर्ट
मानसखण्ड की तरह केदारखण्ड मंदिर माला मिशन भी बनायें- महाराज
मुख्यमंत्री ने केदारनाथ धाम में वर्ष 2013 की भीषण त्रासदी में दिवंगत आत्माओं की शांति के लिए की ईश्वर से प्रार्थना।
बस हादसाः सीएम की अफसरों को दो टूक, दायित्व निर्वहन में शिथिलता पर होगी कड़ी कार्रवाई
CM धामी ने जाना ऋषिकेश में उपचार हेतु भर्ती रुद्रप्रयाग में हुई वाहन दुर्घटना के घायलों का हालचाल।
शरीर के साथ स्किन के लिए भी फायदेमंद है खीरा, जानें चमत्कारी गुण
गर्मी के दौरान ज्यादा देर तक एक्सरसाइज करने से करें परहेज, हो सकते हैं ये नुकसान

‘हम यूसीसी कानून को नहीं बल्कि कुरान शरीफ को मानेंगे’- सपा सांसद एसटी हसन

देहरादून। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मंगलवार (6 फरवरी) को राज्य विधानसभा में समान नागरिक संहिता(UCC) विधेयक 2024 पेश किया। ये बिल पास होने के बाद उत्तराखंड देश में आजादी के बाद यूसीसी लागू करने वाला पहला राज्य बन जाएगा। इसी बीच यूसीसी को लेकर समाजवादी पार्टी के सांसद एसटी हसन ने ऐसा बयान दिया है जो चर्चा का विषय बना हुआ है।
समाजवादी पार्टी के सांसद एसटी हसन ने कहा कि अगर यह कुरान में मुसलमानों को दी गई ‘हिदायत’ के खिलाफ है तो हम इसका (यूसीसी विधेयक) पालन नहीं करेंगे। हम यूसीसी कानून को नहीं बल्कि कुरान शरीफ को मानेंगे। हां, अगर यह ‘हिदायत’ के अनुसार है तो हमें कोई आपत्ति नहीं है।

कांग्रेस नेताओं ने भी यूसीसी का विरोध किया है। यूसीसी बिल पेश होने पर उत्तराखंड के पूर्व सीएम हरीश रावत ने कहा कि अगर राज्य सरकार समान नागरिक संहिता के नाम पर शासक वर्ग के लिए दूसरे समुदाय की परंपराओं में हस्तक्षेप करने के लिए कानून लाती है, तो क्या ये गलत नहीं होगा?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back To Top